भाषा भाव से उत्पन्न होती है और उसका स्वरूप निर्माण संस्कृति से होता है। हिन्दी मात्र संवाद का माध्यम ही नहीं यह भारतीय लोकजीवन , संस्कृति और आकांक्षाओं की अभिव्यक्ति भी है। हिन्दी हिन्दवासियों के लिये अस्मिता का चिह्न है। हिन्दी अपनायें , हिन्दुस्थान का गौरव बढ़ायें।

1 Comment

  1. Hi, this is a comment.
    To get started with moderating, editing, and deleting comments, please visit the Comments screen in the dashboard.
    Commenter avatars come from Gravatar.

Comments are closed.